Get access to terabytes of porn in Telegram »

"PaperLess Study™" Telegram Channel

Logo of telegram channel paper_less_study — PaperLess Study™
3,290
Topics from channel:
Important
Mppsc
Paperless
Mppscpre
Paperlessstudy
Motivation
Share
Logo of telegram channel paper_less_study — PaperLess Study™
Topics from channel:
Important
Mppsc
Paperless
Mppscpre
Paperlessstudy
Motivation
Share

"PaperLess Study™" Telegram Channel

Channel address: @paper_less_study
Categories: Education , Adult content (18+)
Language: Hindi
Subscribers: 19,282 (Update date: 2021-10-18)
Description from channel

यह चैनल सभी competitive exams की prepration करने वाले छात्रों के लिए बनाया है
आप खुद इस चैनल से जुड़े और अपने मित्रों को भी जोड़ें
आप हमारे FB पेज fb.com/paperlessstudy
रेलवे 👉 @railways_ntpc
Creator 👉 @shivamneekhara

Comments

You must log in to post a comment.



The latest Messages

2021-07-16 07:30:04 क्लास शुरू हो चुकी है

म. प्र. में उद्योग ⛏️

डिटेल क्लास 🎯

समय : 10 AM 👇

https://unacademy.com/course/mpr-men-udyog-mcqs-klaas-privrtn-siiriij-c53/EDF9RQ2W

Unlock Code : SNLIVE10 🎯
16 views
Open / Comment
2021-07-16 06:24:49 1 घंटा शेष 🎯

म. प्र. में उद्योग ⛏️

MCQs क्लास 🎯

समय : 10 AM 👇

https://unacademy.com/course/mpr-men-udyog-mcqs-klaas-privrtn-siiriij-c53/EDF9RQ2W

Unlock Code : SNLIVE10 🎯
297 views
Open / Comment
2021-07-15 19:45:08 म. प्र. में उद्योग ⛏️

डिटेल क्लास 🎯

समय : 10 AM 👇

https://unacademy.com/course/mpr-men-udyog-mcqs-klaas-privrtn-siiriij-c53/EDF9RQ2W

Unlock Code : SNLIVE10 🎯
1.1K views
Open / Comment
2021-07-15 19:45:04
Picture 1 from PaperLess Studyâ„¢ 2021-07-15 19:45:04
1.1K views
Open / Comment
2021-07-15 16:47:01 💁‍♀ अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी 🔰

PaperLess Study ज्ञान श्रृंखला 👌

👉अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा अभिकरण एक स्वायत्त संस्था है, जिसका उद्देश्य विश्व में परमाणु ऊर्जा का शांतिपूर्ण उपयोग सुनिश्चित करना है।

👉इसका गठन 29 जुलाई, 1957 को हुआ था। इसका मुख्यालय वियना (आस्ट्रिया) में है।

👉यह संयुक्त राष्ट्र का अंग नही है परंतु संयुक्त राष्ट्र महासभा तथा सुरक्षा परिषद को अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करता है।

👉वर्तमान में इसके महानिदेशक राफेल मारिआनो ग्रॉसी (Rafael Mariano Grossi) हैं।

पोस्ट अच्छी लगी हो तो शेयर जरुर कीजिए।
▰▱ ☆★ ▱▰ ☆★ ▰▱ ☆★
Join √ @paper_less_study
▰▱ ☆★ ▱▰ ☆★ ▰▱ ☆★
1.4K views
Open / Comment
2021-07-15 16:24:42
Picture 1 from PaperLess Studyâ„¢ 2021-07-15 16:24:42
✏️Use code MPEXAMS10 & get 10% discount on the Unacademy subscription.
Enroll Now !
Unacademy app download करें- bit.ly/unacademy_app
1.3K views
Open / Comment
2021-07-15 15:43:40 PaperLess Study ज्ञान श्रृंखला 👌

🔴👉 कौन थी रानी दुर्गावती?
👇 जानिए उनके बारे में 10 रोचक बातें

1. वीरांगना महारानी दुर्गावती का जन्म 5 अक्टूबर 1524 में हुआ था। उनका राज्य गोंडवाना में था।
2. बाँदा जिले के कालिंजर किले में 1524 ईसवी की दुर्गाष्टमी पर जन्म के कारण ही उनका नाम दुर्गावती रखा गया। नाम के अनुरूप ही वह तेज, साहस, शौर्य और सुंदरता के कारण इनकी प्रसिद्धि सब ओर फैल गई।
3. महारानी दुर्गावती कालिंजर के राजा कीर्तिसिंह चंदेल की एकमात्र संतान थीं। राजा संग्राम शाह के पुत्र दलपत शाह से उनका विवाह हुआ था।
4. दुर्भाग्यवश विवाह के 4 वर्ष बाद ही राजा दलपतशाह का निधन हो गया। उस समय दुर्गावती का पुत्र नारायण 3 वर्ष का ही था अतः रानी ने स्वयं ही गढ़मंडला का शासन संभाल लिया। वर्तमान जबलपुर उनके राज्य का केंद्र था।
5. सूबेदार बाजबहादुर ने भी रानी दुर्गावती पर बुरी नजर डाली थी लेकिन उसको मुंह की खानी पड़ी। दूसरी बार के युद्ध में दुर्गावती ने उसकी पूरी सेना का सफाया कर दिया और फिर वह कभी पलटकर नहीं आया।
6. दुर्गावती ने तीनों मुस्लिम राज्यों को बार-बार युद्ध में परास्त किया। पराजित मुस्लिम राज्य इतने भयभीत हुए कि उन्होंने गोंडवाने की ओर झांकना भी बंद कर दिया। इन तीनों राज्यों की विजय में दुर्गावती को अपार संपत्ति हाथ लगी।
7. दुर्गावती बड़ी वीर थी। उसे कभी पता चल जाता था कि अमुक स्थान पर शेर दिखाई दिया है, तो वह शस्त्र उठा तुरंत शेर का शिकार करने चल देती और जब तक उसे मार नहीं लेती, पानी भी नहीं पीती थीं।
8.महारानी ने 16 वर्ष तक राज संभाला। इस दौरान उन्होंने अनेक मंदिर, मठ, कुएं, बावड़ी तथा धर्मशालाएं बनवाईं।
9. वीरांगना महारानी दुर्गावती साक्षात दुर्गा थी। इस वीरतापूर्ण चरित्र वाली रानी ने अंत समय निकट जानकर अपनी कटार स्वयं ही अपने सीने में मारकर आत्म बलिदान के पथ पर बढ़ गईं।
10. रानी दुर्गावती का पराक्रम कि उसने अकबर के जुल्म के आगे झुकने से इंकार कर स्वतंत्रता और अस्मिता के लिए युद्ध भूमि को चुना और अनेक बार शत्रुओं को पराजित करते हुए 1564 ई.में बलिदान दे दिया।

#mppsc2020

Post अच्छी लगी हो तो शेयर जरुर कीजिए।
▰▱ ☆★ ▱▰ ☆★ ▰▱ ☆★
Join √ @paper_less_study
▰▱ ☆★ ▱▰ ☆★ ▰▱ ☆★
1.4K views
Open / Comment